Internet Ka Malik Kaun Hai? इंटरनेट को को चलता है? Best Knowledge 2021

यह सवाल शायद सबके मन आता होगा कि इंटरनेट को को चलता है, Internet Ka Malik Kaun Hai, कोन इसका मालिक है, क्योंकि आजके समय मे हर चीज का कोई न कोई मालिक है, और उसके लिए उसे कुछ मेहनत करना होता है।

लेकिन इंटरनेट एक ऐसी चीज है जिसे हर इनसान इस्तेमाल।कर रहा है, और इंटरनेट के जारी लाखों की कारोबार भी होता है। तो ऐसे में मन मे यह सवाल आता है कि इंटरनेट को कोन चलता है, और वो कितना पैसा कमाते होगा। तो आजके इस article में इन्ही सवालों का जवाब मिलने वाला है।

इसे समझने के लिए में आपको एक साधारण उदाहरण दूँगा, मेरे पास एक Car है, और उसको में सड़क में चला रहा हूँ, उस गाड़ी के लिए मे ने मेहनत किआ है, और जिस सड़क में में गाड़ी को चला रहा हूँ, उसके लिए मे ने Tax भी भुगतान किआ है।

लेकिन अचानक एक दिन मेरे सामने कुछ चोर आये और मुझसे मेरी गाड़ी छीन कर लेगेये, तो क्या आप बता सकते है अब उस गाड़ी का मालिक कोन है?

इंटरनेट को को चलता है?

जवाब : भले ही उस गाड़ी को मुझसे छीना गया है, और अब कोई और उस गाड़ी को चला रहा है, लेकिन फिर उस गाड़ी का मालिक में हूँ, अगर मैं Police में Complain करता हूँ मुझे मेरी गाड़ी वापस मिल सकता है।

क्योंकि मेने उस गाड़ी को पैसा देकर ख़रीद है, उस गाड़ी के लिए Auto insurance भी मेने किआ है, और उस गाड़ी का Number मेरे नाम से रजिस्टर है। Internet Ka Malik Kaun Hai

अगर कोई भी इंसान मेरे इजाज़त बिना उस गाड़ी को चलता है, या बेच देता है तो मैं दावा कर सकता हूं कि वो गाड़ी मेरा है, लेकिन अगर मैं खुद उस गाड़ी को बेचता हूँ, किसी और को इजाज़त देता हूँ कि वो उसे इस्तेमाल कर सकता है, तो उस इंसान को भी मुझे कुछ पैसे देने होंगे।

यह पूरी तरह से मुझ पर निर्भर करता है कि मैं उस गाड़ी को कैसे बेचता हूँ। इंटरनेट भी कुछ इसी तरह से काम करता है। आज से कुछ साल पहले मतलब 1998 में दुनिया का सबसे अमीर इनसान Bilgets ने इंटरनेट को खरीदने की प्रयास किया था।

लेकिन वो इसमें असफल रहा क्यों कि उसे आयात नही चल पाया कि payment किसे करें। किसके नाम से चेक बनाना है।

और अगर बास्तब में समझ जाए तो इंटरनेट का कोई भी मालिक नही है, यह सार्वजनिक है, मतलब ऐसा हो सकता है कि इंटरनेट का कोई भी मालिक नही है, या फिर इसका मालिक हर इंटरनेट user है।

यह शत प्रतिशत सचाई है कि इंटरनेट का मालिक कोई भी नही है, और न ही इसे कोई एक व्यक्ति नियंत्रण करता है, इंटरनेट एक भौतिक अवसंरचना पर निर्भर करता है जो दुनिया भर के नेटवर्क को आपस मे जोड़ता है।

इसका मतलब अगर कोई एक व्यक्ति चाहे तो इंटरनेट को बंद नही कर सकता, या अगर किसी देश का सरकार चाहे तो भी इंटरनेट को बंद नही कर सकता।

इंटरनेट कैसे काम करता है?

Internet Ka Malik Kaun Hai? इंटरनेट को को चलता है
Internet Ka Malik Kaun Hai? इंटरनेट को को चलता है

इंटरनेट एक भौतिक अवसंरचना पर निर्भर करता है, जिसे अगर बंद कर फ़िया जाए तो भी इसे इस्तेमाल किया जा सकता है, उदाहरण स्वरूप अगर आपको कोई video इंटरनेट में देखना है, तो आपको उस Video का नाम या URL के जरिए एक अनुरोध जारी करना होगा।

उसके बाद वो अनुरोध उस server के पास ओआहोंचेगा, और जांच करेगा कि आपने जिसके लिए अनुरोध किआ है वो मौजूद है या नही, अगर वो Video Server में मौजूद होगा तो आप उसे देख पाएंगे।

और यह Server इंटरनेट से connected रहता है, जो सेटेलाइट से जुड़ा हुआ एक Wireless जाल है। अगर आपके पास इंटरनेट नही है, तो आपको उस Video को देखने के लिए एक Cable की जरुरत होगी, जिसे उस Server से connect करना होगा।

यही प्रणाली अपना कर India के सबसे बड़े Celular network Jio ने समुद्र में Wire के जरिए इंटरनेट को पूरे India में Connect किआ, और Jio के आने के बाद इंटरनेट इतना सस्ता हो गये कि दूसरे Celuler network उसके सामने टिक नही सके।

नतीजा आज India में 50GB 4g नेटवर्क के लिए 199rs महीने भुगतान करना पड़ता है, जिसके वजह से India में बच्चे भी इंटरनेट का उपयोग कर पा रहे है।

इसका एक और उदाहरण है YouTube ham YouTube में कोई भी वीडियो देखने के लिए इसकी Official वेबसाइट या Mobile app का इस्तेमाल करते है, और इसके लिए इंटरनेट का सहारा लेना पड़ता है।

लेकिन अगर हम अपने घर से एक Cable YouTube सेंट्रल तक पहुँचा दिए, तो बिना इंटरनेट के भी हम YouTube में वीडियो देख पाएंगे। और उस Cable connection का मालिक आप है, और अगर आप चाहें तो उसे दूसरों के साथ भी बांट सकते है।

तो सिद्धांत रूप में, इंटरनेट का मालिक वो है जो इसका उपयोग करता है। फिर भी, वास्तव में देखा जाए तो , कुछ संस्थाएँ जो “यांत्रिकी” और इंटरनेट के नियम पर अधिक प्रभाव डालती हैं।

ऐसे संगठन हैं जो इंटरनेट पर क्या होता है इसकी देखरेख करते हैं, इंटरनेट पर होने वाली ग़लती, या scam के ऊपर नजर रखते है।

और IP पते और डोमेन नाम, websites, को ट्रैक करते है, नेशनल साइंस फ़ाउंडेशन, इंटरनेट इंजीनियरिंग टास्क फोर्स, आईसीएएनएन, इंटरएनआईसी और इंटरनेट आर्किटेक्चर बोर्ड को असाइन करते हैं।

कई संगठन, निगम, सरकारें, स्कूल, निजी नागरिक और सेवा प्रदाता ऐसे हैं जो इंटरनेट को मैनेज करते है, लेकिन ऐसा कोई एक व्यक्ति नही जो इंटरनेट का मालिक है।

इसके अलावा भी राष्ट्रीय विज्ञान फ़ाउंडेशन, इंटरनेट इंजीनियरिंग टास्क फोर्स, ICANN, Inter NIC और इंटरनेट आर्किटेक्चर बोर्ड जैसे संगठन ऐसे संगठन हैं जो काफी हद तक अमेरिका द्वारा निर्मित और managed हैं।

इंटरनेट का DNS क्या है? Internet Ka Malik Kaun Hai.

Internet Ka Malik Kaun Hai? इंटरनेट को को चलता है
Internet Ka Malik Kaun Hai? इंटरनेट को को चलता है

मान लीजिए आप hinditechweb.com को visit करना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको hinditechweb.com नाम को Google पर सर्च करने होगा, लेकिन हमारे site का असली पता यह नही है, असल मे यह एक ऐसा नाम है जिसको याद रखने में आसानी होती है।

दुनिया भर के Computer और अन्य Online चीजें भी इसी तरह काम करती है, जैसे एक Smart phone।

पहले के समय मे Smartphone इतना advance नही हुआ था, और तरह तरह के Chines Phone market में मिलते थे जिनका कोई निर्दिष्ट पता नही था।

इसलिए गेर कानूनी काम की मात्रा बहुत ज्यादा हो गये था लेकिन फिर सरकार ने हर Online device के लिए Imi नंबर को जरूरी कर दिया । Internet Ka Malik Kaun Hai.

IMI नंबर के बारे में हम दूसरे आर्टिकल में जानेंगे, लेकिन आप अभी के लिए सिर्फ इतना जाने की IMI नंबर वो है जिसे किसी भी device का पता लगाया जा सकता है। और यह नंबर आपको उस डिवाइस के बिल और Box में मिल जाएगा।

लेकिन जरा सोचिए अगर हमे हर डिवाइस या Website तक पहुचने के लिए नंबर को याद रखने होते तो यह हमारे लिए कितना मुश्किल होता।

इस समस्या को हल करने के लिए अमेरिकी आविष्कार आया जिसे DNS कहा जाता है, यह एक Server का path है जहाँ एक Domain को IP adress के जरिए connect किआ जा सकता है।

मतलब एक Server का एक IP adress होता है जो नंबर के मौजूद होता है, उस नंबर को DNS के जरिए connect किआ जाता है, और DNS को Domain से connet किआ जाता है।

जब आप एक वेब पते को टाइप करते हैं, जैसे Thedailywebsite, तो एक DNS मशीन सही संख्यात्मक पते (IP) को खोज ता है और आपको उस पाते तक हुक करती है। जिसके वेजेहसे आप Website को देख पाते है।

हालांकि DNS हजारों कंप्यूटरों का एक नेटवर्क है, जो इंटरनेट के शीर्ष पर स्तरित है। लेकिन सभी DNS मशीनें अंततः 13 रूट सर्वरों को रिपोर्ट करती हैं, और ये 13 सर्वर विभिन्न प्रकार के संगठनों द्वारा चलाए जा रहे हैं, जिनमें अमेरिकी सेना से लेकर निजी server provider भी शामिल है, यानी के अगर आप एक Website बना रहे है तो उस Website के ऊपर सभी की नजर रहती है, और अगर आप अपने Website में कोई गलत काम कर रहे है, तो इसके लिए आपको जुर्माना भरना पड़ सकता है।

US internet connection क्या है?

इसे समझने के लिए में आपको एक साधारण उदाहरण दूँगा, हालांकि Internet का मालिक कोई भी नही है, लेकिन आप जब भी किसी Server को खरीदते है, तो आपको Server location पूछा जाता है।

और लोगों को यह समझ नही आता कि यह क्या चीज है, Server location (Hosting location) यह इसलिए पूछा जाता है, ताकि आपका सामग्री बेहतर ढंग से कार्य कर सके।

मान लीजिए आपने एक website बनाई और उस website का Hosting USA में स्थित है, लेकिन आपके website को Canada में देखी जा रही है। तो ईश मामले मे आपका Website loading time बहुत ज्यादा होगा। लेकिन अगर आपका Hosting Canada में मौजूद है तो यह और बेहतर तरीके से काम करेगा।

यह बिल्कुल उसी तरह है, जिस तरह एक Speaker काम करता है, अगर Speaker आपके नज़दीक है तो यह जड़ अच्छे से बजेगा, और अगर इसका Wire ज्यादा लंबा है तो Sound quilty में ख़राबी देखने को मिलेगी।

इसलिए अगर आपका website Hindi में है, तो आपको India का Server location चुनना है, और अगर आपका User USA से है तो आपको Server location USA चुनना है।

मतलब USA connection जैसा कुछ नही है, Server जहां मौजूद होगा उसका Connection वहीं का मन जाएगा। Internet Ka Malik Kaun Hai

क्या internet में गलत काम किया जाता है?

Internet Ka Malik Kaun Hai? इंटरनेट को को चलता है
Internet Ka Malik Kaun Hai? इंटरनेट को को चलता है

जैसा कि मैने आपको बताया है कि Internet का मालिक कोई भी नही है, लेकिन यह सरकार द्वारा manage किआ जाता है।

लेकिन बावजूद इसके कुछ Developer ऐसे है, जो इंटरनेट को बेवकूफ़ बनाने में सफल हो जाते है, कुछ Software ऐसे है जो Internet में अपने IP को बदलते रहते है, जैसे Nord VPN

और इस वेजेह से internet पर गलत काम को करना संभव हो जाता है, लेकिन यह सिर्फ कुछ दिनों के लिए ही संभव है, एक न एक दिन आप पकड़े जाएंगे।

ज्यादातर गेर कानूनी चीजें White web में नही की जा सकती, इसके लिए लोग Dark web का सहारा लेते है। और यह dark web भी इंटरनेट से जुड़ा हुआ है।

Conclusion:

दोस्तों इंटरनेट एक कंप्यूटर दिमाग है जहां हर तरह का जानकारी मिलता है, चाहे वो अच्छा हो या बुरा हर चीज इंटरनेट में मौजूद है, लेकिन यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप किसी चुनते है। मेरा सलाह रहेगा कि आप इंटरनेट को सिर्फ आपके सहायता के लिए इस्तेमाल करें, गलत काम कभी न कभी पकड़ा जाएगा, और तब आपको इसकी भारी कीमत चुकाने पड़ेगी।

इसके साथ आजके इस लेख को समाप्त करते है, मिलेंगे एक और नए लेख में टैब तक के लिए धन्यवाद।

Leave a Comment